पंजाब में लोकसभा चुनाव के लिए बुधवार को पंजाब के दौरे पर पहुंचे केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने गडकरी ने पाकिस्तान को चेताया कि आतंकवाद नहीं रोका तो पाक जाने वाला पानी बंद कर देंगे। उन्होंने कहा कि 1960 में पाक जरनल अयूब खान और भारत के पीएम जवाहर लाल नेहरू के बीच जलसंधि हुई थी। लिखित करार हुआ था कि दोनों देशों के बीच भाईचारा, सौहार्द, पारिवारिक रिश्ते हैं, इसलिए हम भारत से निकलने वाली छह नदियों में से तीन नदियों का पानी पाक को देंगे।

पाक लगातार आतंकवाद और आतंकी संगठनों का समर्थन कर रहा है। अगर उसने आतंकवाद को नहीं रोका, तो हमारे पास उनका पानी रोकने के अलावा कोई चारा नहीं है। हमने इस पर अध्ययन भी शुरू कर दिया है। गडकरी अमृतसर, लुधियाना के खन्ना और मोहाली के बलौंगी में शिअद-भाजपा प्रत्याशियों के लिए प्रचार करने पहुंचे थे।

 

अमृतसर में पत्रकारों से बातचीत में गडकरी ने कहा कि पाक करार पर खरा नहीं उतर रहा, इसलिए हम भी जलसंधि के करार के लिए बाध्य नहीं है। पाक का पानी बंद कर सारा पानी पंजाब, हरियाणा और राजस्थान को दिया जाएगा। फिर हम चिंता नहीं करेंगे कि वह बदले में बम गोला फेंकें या कुछ भी करें।

 

श्री करतारपुर साहिब कॉरिडोर पर उन्होंने कहा कि तीन-चार माह में काम पूरा हो जाएगा। जमीन अधिग्रहण में थोड़ी दिक्कत आई थी। पंजाब सरकार के सहयोग से उसका समाधान हो जाएगा।

175 किमी घटेगी दिल्ली से कटड़ा की दूरी

 

उन्होंने कहा कि दिल्ली से कटड़ा एक्सप्रेस हाईवे की डीपीआर जून में आएगा। 47 हजार करोड़ से बनने वाले इस प्रोजेक्ट से दिल्ली से कटड़ा की दूरी 747 किलोमीटर से घटकर 572 किलोमीटर रह जाएगी। 175 किमी की दूरी कम होगी। यह एक्सप्रेस वे हरियाणा के बहादुरगढ़, रोहतक, जींद से होकर जाएगा।

विकास के बूते पर लड़ रहे चुनाव

 

गडकरी ने कहा कि 2014 की चुनावी विशेषता थी कि लोगों ने मोदी व भाजपा को बड़ी उम्मीद व आशा से चुना था। पांच सालों में सरकार ने बहुत काम किया है ओर विकास के बूते पर ही हम 2019 का चुनाव लड़ रहे हैं। यह चुनाव देश का भविष्य तय करेगा।

कांग्रेस से मनभेद नहीं

राहुल गांधी की ओर से माफी मांगने पर उन्होंने कहा कि मोदी भाजपा के नहीं देश के प्रधानमंत्री हैं। हमारी कांग्रेस से मतभिन्नता हो सकती है, पर मनभेद नहीं। हम एक दूसरे के दुश्मन नहीं हैं। हम सभी को मिलकर चुनाव की गरिमा को बनाए रखना चाहिए। खन्ना में उन्होंने कहा कि राहुल गांधी ने गरीबी हटाओ को नारा देकर यह मान लिया है कि देश पर 60 साल शासन करने के बावजूद उनका परिवार गरीबी नहीं हटा पाया।