राजद नेता सह पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने सोमवार को कहा है कि इस चुनाव में समाज अगर बंटा तो लालू जी को न्याय नहीं मिल पाएगा। यह चुनाव संविधान और आरक्षण बचाने की लड़ाई है। जहानाबाद के रतनी और मोदनगंज में राजद प्रत्याशी सुरेंद्र प्रसाद यादव के पक्ष में आयोजित चुनावी सभाओं में तेजस्वी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर भी हमलावर दिखे।

संक्षिप्त संबोधन में उन्होंने नीतीश को फिर से पल्टू चाचा की संज्ञा दी और कहा कि चार साल में चार सरकार बनाने वाले चाचा से चौकन्ना रहने की जरूरत है। उन्होंने सभा में देरी से पहुंचने के लिए सरकार को जिम्मेवार ठहराया और कहा कि दो घंटे तक पटना एयरपोर्ट पर प्रशासन ने उनके हेलीकॉप्टर को उड़ने ही नहीं दिया। शराबबंदी के सरकार के निर्णय पर सवाल खड़ा करते हुए तेजस्वी ने कहा कि अब तो घर- घर दारू बिक रहा है। फर्क यही आया है कि पहले शराब सस्ती थी, अब महंगी बिक रही है। अब तक एक भी अमीर को शराब के मामले में जेल नहीं हुआ है। सिर्फ गरीबों को फंसाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कुछ लोग उनकी तस्वीर अपने बैनर पर लगा भ्रम फैला रहे हैं। लेकिन, सभी लोग राजद के चुनाव चिन्ह लालटेन पर ही वोट दें।

सभा में पूर्व सीएम जीतनराम मांझी ने कहा कि अगर महागठबंधन की सरकार बनी तो सभी नियोजित शिक्षकों को समान काम के लिए समान वेतन दिया जाएगा। ठेका पर बहाल विकास मित्रों, टोला सेवकों, जीविका, आशा व अन्य कर्मियों को नियमित किया जाएगा। हमारी सरकार बनने के बाद नियोजित शिक्षकों को समान वेतन देने पर काम शुरू हुआ, लेकिन नीतीश के सत्ता में आते ही सरकार इस मुद्दे पर मुकर गई और कोर्ट चली गई। उन्होंने कहा कि जहानाबाद में एक स्वतंत्र उम्मीदवार को टेलीफोन छाप चुनाव चिन्ह मिला है। लेकिन महागठबंधन के कार्यकर्ता और हमारे समर्थक कोई भ्रम में न रहें। हमारे उम्मीदवार सुरेंद्र प्रसाद यादव हैं और उन्हें लालटेन छाप पर बटन दबा विजयी बनाएं।

हिंदी समाचार के लिए आप हमे फेसबुक पर भी ज्वाइन कर सकते है |