• सूरत में आग हादसे में छात्र-छात्राओं समेत 23 की मौत हो गई
  • शनिवार को जख्मी 2 और छात्र की मौत हो गई, सात की हालत बेहद गंभीर है 
  • परिजनों ने कहा- बच्चों को पहचानना मुश्किल हुआ, हम घंटों भटकते रहे
  • आग इतनी भीषण थी कि उसे बुझाने में करीब छह घंटे लग गए

सूरत. सरथाणा जकातनाका के तक्षशिला आर्केड में लगी आग में मरने वालों का आंकड़ा 23 हो गया है। शनिवार को जख्मी दो और छात्रों की मौत हो गई, वहीं सात की हालत बेहद गंभीर है। इससे पहले शुक्रवार देर रात तक तीन छात्र और 15 छात्राओं समेत 21 की मौत हो गई थी। हादसा इतना दर्दनाक था कि परिजन को अपने मृतक बच्चों की पहचान करना मुश्किल हो गया। उन्होंने घड़ी से और मोबाइल पर घंटी देकर शिनाख्त की। कई तो घंटों तक भटकते रहे। हादसा शुक्रवार दोपहर 3:40 बजे शॉर्ट सर्किट की वजह से हुआ।

18 साल की जाह्नवी चतुरभाई वसोया और 17 साल की कृति नीलेश दयाल की पहचान उनकी घड़ियों से हुई। इनके परिजन ने बताया कि दोनों इंस्टीट्यूट में पढ़ने आती थीं। कुछ दिन पहले इन्हें घड़ी दिलाई थी। कुछ परिजन बच्चों को ढूंढते हुए स्मीमेर अस्पताल पहुंचे। इसी तरह 18 साल की एशा खड़ेला ड्रॉइंग सीखने जाती थी। पिता ने एशा के मोबाइल पर फोन किया, तो घंटी मोर्चरी में रखे शव से चिपके मोबाइल पर बजी। वहीं, मौजूद एक कर्मचारी ने फोन उठाया और पिता को पूरी घटना बताई। एशा पूरी तरह जल चुकी थी, लेकिन संयोग से फोन बच गया था।

प्लास्टिक के बोरो में लाई गई लाशें 

  • स्मीमेर अस्पताल में एक के बाद एक करीब 10 एम्बुलेंस में 17 शव 30 मिनट में पहुंचाए गए। शव चादर और प्लास्टिक के बोरों में लाए गए। उधर, पीड़ित बच्चों के परिजन का अस्पताल पहुंचना शुरू हो गया था। 
  • शव तो उनके सामने थे, लेकिन उन्हें पहचानना मुश्किल था। उनकी पहचान के लिए कोई पासपोर्ट फोटो तो कोई मोबाइल में फोटो लेकर आया था। बेहाल होकर वे अपने लापता परिजन और बच्चों की फोटो सभी को बताकर पहचान की कोशिश करते देखे गए।

हादसे के वक्त 60 बच्चे अलग-अलग क्लासेज में मौजूद थे  
घटना के समय 15 से 22 की उम्र के 60 छात्र-छात्राएं दूसरी और तीसरी मंजिल पर चलने वाली दो आर्ट-हॉबीज क्लासेज अटेंड कर रहे थे। हादसा गुरुवार दोपहर 3:40 बजे हुआ। शाम को करीब 7:30 बजे तक आग बुझ पाई। 13 बच्चों ने दूसरी और तीसरी मंजिल से छलांग लगाई। इनमें से तीन की कूदने से मौत हुई।

aa

 मरना तो तय था मैंने सोचा कूद गया तो बच जाऊंगा

  • 15 साल के राम वाघाणी ने बताया, "मैं अलोहा के नाम से चल रहे माइंड फ्रेश यानी कि मेंटली डेवलप क्लासेस में था तभी धुआं चारों ओर फैलने लगा। मैडम जेनीशाबेन के साथ मैं भी तीसरी मंजिल पर गया। हमारे पास तीसरी मंजिल से कूदने के सिवाय दूसरा कोई रास्ता नहीं था। अब तो मरना ही है, यह सोचकर कूद गया। शुक्र है बच गया।"
  • लोग फोटो लेने और वीडियो बना रहे थे तभी केतन दूसरी मंजिल तक पहुंच गया और नीचे उतरने की कोशिश कर रहे दो बच्चों को आग से बचा लिया। 
  • हॉस्पिटल में भर्ती रेंसी ने बताया, "घटना के समय वे क्रिएटर इंस्टीट्यूट में क्लास में थीं। क्लास में 22 लोग थे। दो-तीन छोटे बच्चे भी थे। कॉम्प्लेक्स में एंट्री-एग्जिट एक ही है। इसलिए धुएं और लपटों से सांस लेना भी मुश्किल हो गया था। हमारी इंस्टीट्यूट के इंस्ट्रक्टर बचने के लिए खुद ही कूद गए थे। हमने सोचा कि अंदर रहे तो जलकर मरेंगे, कूदे तो हाथ-पैर ही टूटेंगे शायद जान बच जाए।" 


39 साल पहले शांतिनाथ मिल में 98 की मौत हुई थी:  39 साल पहले शांतिनाथ मिल दुर्घटना में भीषण आग लगी थी। इस हादसे में 98 लोगों की मौत हो गई थी और 105 लोग जख्मी हो गए थे। दमकल विभाग के 200 कर्मचारियों को आग को बुझाने में पांच दिन लगे थे।