प्रतीकात्मक फोटो 

 

 

 

पाकिस्तान में आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद और लश्कर-ए-झांगवी के लिए फंडिंग करने वाले छह लोगों को गिरफ्तार किया गया है। यह लोग पंजाब प्रांत में आतंकी संगठनों के लिए चंदा एकत्रित कर रहे थे। पाकिस्तानी सुरक्षा बलों ने वैश्विक समुदाय के दबाव के बाद आतंकवाद के वित्तपोषण पर कार्रवाई शुरू कर दी है। पंजाब सरकार के आतंकवाद निरोधक विभाग (सीटीडी) के प्रवक्ता ने बताया कि आतंकवाद के वित्तपोषण के लिए चंदा एकत्रित करने के मामले में प्रांत के अनेक हिस्सों से प्रतिबंधित संगठनों के छह सदस्यों को गिरफ्तार किया गया है। सीटीडी ने कहा कि गिरफ्तार किए गए लोग अपने प्रतिबंधित संगठनों जैश-ए-मोहम्मद और लश्कर-ए-झांगवी के लिए चंदा एकत्रित कर रहे थे।


आतंक के लिए धन जुटाने से रोकेंगे
सीटीडी ने कहा कि पाकिस्तान की सरजमीं में किसी भी आतंकी संगठन के लिए धन जुटाने की हर कोशिश को नाकाम किया जाएगा। आतंकी संगठनों के किसी भी सदस्य को चंदा नहीं वसूलने दिया जाएगा। इसी क्रम में छह लोगों को गिरफ्तार कर उनके खिलाफ आतंकरोधी कानून के तहत टेरर फंडिंग का मामला दर्ज कराया गया है। 


 इनकी गिरफ्तारी हुई
जैश ए मोहम्मद के मोहम्मद जाहिद और इरफान अहमद को गुजरांवाला से और जफर इकबाल को रावलपिंडी से गिरफ्तार किया गया। वहीं मोहम्मद हंजाला और हमजा को लश्कर-ए-झांगवी के लिए धन जुटाने के आरोप में लाहौर से गिरफ्तार किया गया। इसके अलावा मुल्तान से इजाज अहमद को भी गिरफ्तार किया गया है। 


एफएटीएफ ने पिछले साल पाक को ग्रे सूची में डाला 
पेरिस स्थित आतंक की फंडिंग पर निगरानी करने वाली अंतरराष्ट्रीय संस्था एफटीएफ ने पिछले साल जून में पाकिस्तान को ग्रे सूची में डाला था। एफएटीएफ ने पाकिस्तान को आगाह भी किया था कि वह अपने यहां आतंकी संगठन को हो रही आर्थिक मदद को रोके। इस साल फरवरी में एफएटीएफ ने पाक को ग्रे सूची में ही रखने का फैसला किया था। उसका आरोप था कि पाकिस्तान लश्कर-ए-तैयबा, जैश-ए-मोहम्मद और जमात-उद-दावा को आर्थिक सहयोग रोकने में विफल रहा है। 


पाक ने 100 सदस्य गिरफ्तार किए थे
पुलवामा में सीआरपीएफ जवानों पर जैश ए मोहम्मद द्वारा कराए गए आतंकी हमले के बाद पाकिस्तान पर अंतरराष्ट्रीय दबाव बढ़ा था। दोनों देशों के बीच हुए तनाव के बीच पाकिस्तान सरकार ने जैश सरगना मसूद अजहर के बेटे और भाई के संगठनों के 100 सदस्यों को गिरफ्तार किया था। इसके अलावा जैश, जमात उद दावा और एफआईएफ की देश भर में संपत्तियों को जब्त कर लिया था। 

 

हिंदी समाचार के लिए आप हमे फेसबुक पर भी ज्वाइन कर सकते है