आईएस ने श्रीलंका धमाकों की जिम्मेदारी ली थी। -फाइल

 

 

 

  • खुफिया रिपोर्ट के मुताबिक, आतंकी पहले लक्षद्वीप पहुंच सकते हैं
  • केरल के तटीय इलाकों में हाईअलर्ट, पुलिस और तटीय विभाग ने संदिग्ध बोटों की निगरानी बढ़ाई
  • एनआईए ने कहा था- श्रीलंका धमाकों से पहले आतंकी केरल में ठहरे थे

तिरुवनंतपुरम. खुफिया एजेंसियों ने श्रीलंका और भारत के बीच समुद्र में आईएस आतंकियों की मौजूदगी का अलर्ट जारी किया है। इसके मुताबिक, 15 आतंकी बोट में सवार होकर भारत पहुंच सकते हैं। वे समुद्र के रास्ते श्रीलंका से लक्षद्वीप की ओर बढ़ रहे हैं। इसके बाद रविवार को कोस्टगार्ड ने हर संदिग्ध बोट पर नजर रखने के लिए शिप और सर्विलांस एयरक्राफ्ट तैनात किए। श्रीलंका से लगी समुद्री सीमा पर भी नजर रखी जा रही है।

केरल पुलिस ने तटीय जिलों में हाईअलर्ट जारी किया है। सूत्रों ने बताया कि चौकसी बढ़ाने के लिए अलर्ट जारी करना सामान्य प्रक्रिया है, लेकिन इस बार आतंकियों की संख्या तक बताई गई है। वहीं, तटीय विभाग का कहना है कि उनके अफसर श्रीलंका अटैक और 23 मई को आतंकियों के बारे में अलर्ट मिलने के बाद से ही चौकन्ने हैं।

श्रीलंका धमाकों से पहले आतंकी केरल में रुके थे
आईएस आतंकियों ने ईस्टर के मौके (21 अप्रैल) पर श्रीलंका में आठ सीरियल ब्लास्ट को अंजाम दिया था। इसमें 250 से ज्यादा लोग मारे गए थे। इसके बाद से केरल में अलर्ट है। एनआईए की जांच में पता चला था कि धमाकों की योजना तैयार करने के लिए आतंकी कुछ दिनों तक केरल में ठहरे थे।

 

हिंदी समाचार के लिए आप हमे फेसबुक पर भी ज्वाइन कर सकते है