बुधवार को दोपहर में मुख्यमंत्री आवास पर मुख्यमंत्री 
योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के नवनिर्वाचित सांसदों को भोज पर बुलाया है।

 

सपा-बसपा गठबंधन के बावजूद उत्तर प्रदेश में सहयोगियों समेत 64 सीट जीतने के बाद भाजपा का उत्साह बढ़ा है। पर, निकट भविष्य में 11 विधानसभा सीटों पर होने वाले उप चुनाव और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जनप्रतिनिधियों से सेवा की अपेक्षा ने भाजपा नियंताओं को प्रेरित किया है। इस कड़ी में बुधवार को दोपहर में मुख्यमंत्री आवास पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के नवनिर्वाचित सांसदों को भोज पर बुलाया है। 

 

इससे पहले भाजपा के जीते हुए सांसदों के साथ आज पांच कालिदास मार्ग स्थित मुख्यमंत्री आवास पर बैठक का भी आयोजन किया गया। बैठक में प्रदेश अध्यक्ष डॉ.महेंद्रनाथ पांडेय तथा दोनों उपमुख्यमंत्री डॉ.दिनेश शर्मा व केशव प्रसाद मौर्य भी उपस्थित रहे। योगी ने इस दौरान सांसदों को संबोधित करते हुए कहा कि देश की आजादी के बाद पहली बार ऐसा परिवर्तन आया है जब जनता ने प्रत्याशी और पार्टी से ऊपर उठकर देश के प्रधानमंत्री को चुना है। उसी का परिणाम है कि देश में भारतीय जनता पार्टी ने 303 सीट प्राप्त की है। इनमें से 64 सीटें आप लोगों ने उत्तर प्रदेश से दी हैं। इसलिए आप सभी को मैं हृदय से बधाई देता हूं।   

 

लोकसभा चुनाव मेें प्रदेश में बड़ी जीत के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को दोपहर में नवनिर्वाचित सांसदों के साथ बैठक का आयोजन किया। जानकारी के अनुसार बैठक में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष महेंद्रनाथ पांडेय, महामंत्री संगठन सुनील बंसल, प्रदेश प्रभारी जेपी नड्डा, सह-प्रभारी गोवर्धन भाई झड़पिया, नरोत्तम मिश्रा, दुष्यंत गौतम, स्मृति ईरानी, संजीव बालियान, हरीश द्विवेदी, रवि किशन, रमापति राम त्रिपाठी, कौशल किशोर आदि मौजूद रहे। 

 

दोपहर में भोज के बाद शाम को भाजपा मुख्यालय में भी बैठक होगी। इन बैठकों में पार्टी नया लक्ष्य तय करेगी। बैठक में इस भाजपा प्रदेश पदाधिकारी, क्षेत्रीय अध्यक्ष, क्षेत्रीय संगठन मंत्री और क्षेत्रीय प्रभारी मौजूद रहेंगे। इस दौरान प्रत्येक लोकसभा क्षेत्रवार चुनाव नतीजों पर मंथन किया जाएगा इस बैठक में पश्चिम, बृज, अवध, कानपुर बुंदेलखंड, गोरखपुर और काशी क्षेत्र के पार्टी अध्यक्ष, क्षेत्रीय प्रभारी, क्षेत्रीय संगठन मंत्री और चुनाव सह प्रभारी भी शामिल होंगे। 

 

चुनाव परिणाम से यह संदेश गया है कि भाजपा सरकार और संगठन ने मिलकर लक्ष्य हासिल किया है। चुनाव परिणाम के बाद संगठन और सरकार ने एक-दूसरे की सराहना कर यही संदेश दिया। अब पार्टी इसी दिशा में नए सिरे से सक्रिय होगी। बैठक में आगामी कार्यक्रमों की रूपरेखा तय किये जाने के साथ ही नवनिर्वाचित सांसदों से यह अपेक्षा की जाएगी कि वह क्षेत्र में जनता की अपेक्षाओं पर खरा उतरें। चुनाव के दौरान सांसदों के प्रति जनता की नाराजगी जगजाहिर हुई लेकिन, मोदी के नाम पर लोग चुनाव जीत गए।

 

हिंदी समाचार के लिए आप हमे फेसबुक पर भी ज्वाइन कर सकते है