सरायकेला-खरसावां जिले स्थित तिरुलडीह थाना क्षेत्र के कुकुडू साप्ताहिक हाट में माओवादियों ने एक दुस्साहसिक वारदात को अंजाम दे डाला। यहां कानून व्यवस्था की पड़ताल करने पहुंचे राज्य पुलिस के दो सब-इंसपेक्टर और तीन सिपाहियों को नक्सलियों ने बंदूक और चाकू के बल पर अगवा कर लिया। फिर सबकी गोली मार कर हत्या कर दी। घटना शुक्रवार की शाम साढ़े छह बजे की है। नक्सलियों ने पुलिसकर्मियों की बंदूक लूटी और प. बंगाल की ओर भाग गए। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि दो बाइक पर सवार होकर बाजार पहुंचे पांच से छह नक्सलियों ने पूरी घटना को अंजाम दिया। सभी ने मुंह पर गमछा लपेट रखा था।

थाना में ताला लगा भागे पुलिसकर्मी 
दहशत का आलम यह था कि तिरूलडीह थाने के मेन गेट पर ताला लगाकर पुलिसकर्मी भाग गए। कोई घटनास्थल तक जाने की हिम्मत नहीं कर सका। आसपास की सभी दुकानें बंद कर दुकानदार भी भाग निकले।तिरूलडीह के थाना प्रभारी महावीर उरांव सार्वजनिक स्थल पर शराब पीकर डांस करने के आरोप में तीन-चार दिन पहले ही निलंबित किए जा चुके हैं।

 

हाल के दिनों में बढ़ीं नक्सली वारदातें
सरायकेला जिले में हाल के दिनों में नक्सलियों की सक्रियता एकदम से बढ़ी है। कुचाई में विगत 28 मई को नक्सलियों ने आइइडी धमाका किया। इसमें कोबरा 209 बटालियन व झारखंड पुलिस के 15 जवान जख्मी हो गए थे। घायलों को एयरलिफ्ट कर इलाज के लिए रांची ले जाया गया। इसके पूर्व लोकसभा चुनाव के दौरान खूंटी लोकसभा क्षेत्र अंतर्गत खरसावां में मतदान बूथ पर नक्सलियों ने बम विस्फोट किया था।

गुमला में नक्सलियों ने हाट से भाजपा कार्यकर्ता का अपहरण कर की हत्या 
 गुमला के बिशुनपुर थाना क्षेत्र के कटिया गांव में गुरुवार की शाम माओवादियों ने साप्ताहिक हाट से भाजपा कार्यकर्ता ब्रजेश साहू (38) का अपहरण कर लिया और कुछ दूर ले जाकर गोली मारकर हत्या कर दी। ब्रजेश मुर्गे का कारोबार करते हैं। घटनास्थल पर माओवादियों ने पर्चा फेंक हत्या की जिम्मेवारी ली और ब्रजेश को पुलिस का एसपीओ बताया। यहां से कुछ दूर माओवादियों ने एक और वारदात को अंजाम दिया।

 

कटिया विद्यालय के समीप बीड़ी पत्ता से लदा ट्रक फूंक डाला। इन दोनों घटनाओं से ग्रामीणों में खौफ पसर गया और वे अपने घरों में कैद हो गए। आलम यह कि पुलिस को दूसरे दिन घटना की जानकारी मिल पाई।जानकारी के अनुसार कटिया के साप्ताहिक हाट में ब्रजेश साहू मुगरे की दुकान लगाए हुए थे। गुरुवार की शाम साढ़े पांच बजे तीन माओवादी उनके पास पहुंचे और हाथ बांध कर ले गए। बाजार से लगभग आधा किलोमीटर दूर माओवादियों ने उन्हें गोली मार दी।

घटना स्थल पर ही ब्रजेश ने दम तोड़ दिया। पुलिस शुक्रवार को घटनास्थल पर पहुंची और शव को पोस्टर्माटम के लिए गुमला सदर अस्पताल भेजा। ब्रजेश भाजपा के बूथ संयोजक थे। गुमला में तीन वर्ष बाद माओवादियों ने किसी बड़ी घटना को अंजाम दिया है।

 

हिंदी समाचार के लिए आप हमे फेसबुक पर भी ज्वाइन कर सकते है