भारतीय जनता पार्टी इन दिनों देशभर में सदस्यता अभियान चलाकर लोगों को पार्टी से जोड़ने में लगी है. लेकिन इसी सदस्यता अभियान के भरवाए जा रहे फॉर्म ने मध्य प्रदेश की राजनीति में विवाद खड़ा कर दिया है. इस फॉर्म में बीजेपी सदस्यता लेने वालों से उनकी जाति के बारे में भी पूछ रही है.

 

भारतीय जनता पार्टी इन दिनों देशभर में सदस्यता अभियान चलाकर लोगों को पार्टी से जोड़ने में लगी है. लेकिन इसी सदस्यता अभियान के भरवाए जा रहे फॉर्म ने मध्य प्रदेश की राजनीति में विवाद खड़ा कर दिया है. इस फॉर्म में बीजेपी सदस्यता लेने वालों से उनकी जाति के बारे में भी पूछ रही है.

2014 और 2019 के लोकसभा चुनावों में बीजेपी को मिली प्रचंड जीत के पीछे यह दावा किया गया था कि भारतीय जनता पार्टी को जातिगत समीकरणों से ऊपर जाकर सभी जाति और वर्ग के लोगों ने वोट दिए हैं. देश को सबसे ज्यादा प्रधानमंत्री देने वाला राज्य उत्तर प्रदेश जो कि जातिगत समीकरणों की सबसे बड़ी प्रयोगशाला भी है, वहां पर भी पिछले दो लोकसभा चुनाव और इस बीच हुए विधानसभा चुनाव में जिस तरह से बीजेपी को सभी जातियों के वोट मिले उसे देखकर यही लगा कि बीजेपी ने वाकई देश में जातिगत वोट बैंक की राजनीति को कहीं पीछे छोड़ दिया है. लेकिन अब भारतीय जनता पार्टी देशभर में इन दिनों जो सदस्यता अभियान चला रही है उस में सदस्यता लेने के लिए भरवाए जा रहा फॉर्म में लोगों से उनकी जाति का वर्ग भी पूछा जा रहा है.

बताना होगा 'जाति वर्ग'

भारतीय जनता पार्टी के सदस्यता अभियान के फॉर्म में नए सदस्यों से यह पूछा जा रहा है कि वह किस जाति वर्ग से संबंध रखते हैं. फॉर्म में बकायदा इसके लिए 5 विकल्प भी दिए गए हैं. जिसमें नए बनने वाले सदस्य को यह बताना होगा कि वह सामान्य, ओबीसी, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति या अन्य जाति वर्ग से है.

cast-bjp_071719012338.jpgफॉर्म में जाति का कॉलम

कांग्रेस ने बताया 'बंटवारे की राजनीति'

बीजेपी के सदस्यता फॉर्म में जब जाति का कॉलम आया तो मध्य प्रदेश की राजनीति में  विवाद खड़ा हो गया और कांग्रेस को बीजेपी पर हमला करने का मौका मिल गया. कांग्रेस प्रवक्ता शोभा ओझा ने कहा, 'भारतीय जनता पार्टी हमेशा से जातिगत राजनीति करती आई है. यह बात अलग है कि चुनाव में पीएम मोदी को बोलते सुना था कि हम जातिगत राजनीति नहीं करते और यह राजनीति बीएसपी और समाजवादी पार्टी करती है. लेकिन असलियत यह है कि बीजेपी हमेशा से इसी तरह से बंटवारे की राजनीति करती आई है और इसी का प्रमाण है कि वह अपने मेंबरशिप फॉर्म में लोगों से पूछ रहे हैं वह किस जाति के हैं.'

समाज के सभी वर्गों को जोड़ेंगे

सदस्यता फॉर्म में जाति पर विवाद बढ़ा तो सदस्यता अभियान के राष्ट्रीय प्रभारी और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को खुद सामने आना पड़ा. शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस के आरोपों को दकियानूसी बताते हुए कहा की पार्टी समाज के हर वर्ग को साथ में लेकर चलना चाहती है और इसके लिए ही यह सारी कवायद की जा रही है. वहीं शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस को नसीहत दी कि पार्टी पहले अपने अध्यक्ष पद की खोज को पूरा कर ले. शिवराज ने कहा, 'बीजेपी सबकी बात करती है. जब हम कह रहे हैं सब स्पर्शी हैं तो हम समाज के हर वर्ग को जोड़ेंगे. हम इसमें कौन-सा पाप कर रहे हैं. भारतीय जनता पार्टी समाज के हर वर्ग के पास जाएगी और सर्वव्यापी मतलब हर बूथ पर जोड़ेंगे.'

हिंदी समाचार के लिए आप हमे फेसबुक पर भी ज्वाइन कर सकते है