उन्नाव रेप पीड़िता के कार एक्सीडेंट मामले में पुलिस ने 10 लोगों को नामजद किया है. मंगलवार को केंद्र की ओर से इस मामले की सीबीआई जांच कराने की मंजूरी दे दी गई. पीड़िता के परिजनों ने पूरे मामले की सीबीआई जांच की मांग की थी

उन्नाव रेप पीड़िता के कार एक्सीडेंट मामले में पुलिस ने भाजपा विधायक कुलदीप सेंगर समेत 10 को नामजद किया है. इसमें एक नामजद योगी सरकार में मंत्री का दामाद है. साथ ही वो नवाबगंज से ब्लॉक प्रमुख भी है. इसके अलावा नामजद की लिस्ट में आरोपी विधायक का भाई, सेना का रिटायर्ड जवान, वकील और ठेकेदार भी शामिल हैं. बता दें कि रेप पीड़िता के चाचा महेश सिंह की शिकायत पर पुलिस ने एफआईआर दर्ज की है. 

नवाबगंज से ब्लॉक प्रमुख हैं अरुण सिंह

इस मामले में नामजद अरुण सिंह फतेहपुर जिले के हुसैनगंज विधानसभा क्षेत्र से विधायक और योगी सरकार में कृषि राज्य मंत्री रणवेंद्र प्रताप सिंह उर्फ धुन्नी सिंह के दामाद हैं. अरुण सिंह नवाबगंज से ब्लॉक प्रमुख हैं. उनकी सियासी पकड़ काफी मजबूत मानी जाती है. वह आरोपी विधायक कुलदीप सेंगर के करीबी माने जाते हैं. उन्हें कई बार बड़े नेताओं और अफसरों के बीच भी देखा गया है.

नंबरदार के नाम से मशहूर है विधायक का भाई

उन्नाव रेप पीड़िता के कार एक्सीडेंट मामले में विधायक कुलदीप सेंगर के भाई मनोज सेंगर को नामजद किया गया है. मनोज क्षेत्र में नंबरदार के नाम से मशहूर है. उसकी क्षेत्र में अच्छी खासी पैठ है. उसे शहर के बड़े ठेकेदारों में गिना जाता है. रेप पीड़िता के पिता को बुरी तरह पीटने का आरोप मनोज सेंगर पर ही लगा था.

जेल में बंद महिला का पति और बेटा भी नामजद  

4 जून 2017 को 17 वर्षीय पीड़िता ने आरोप लगाया था कि उसका बीजेपी के विधायक कुलदीप सेंगर के घर पर बलात्कार किया गया. इस साजिश में शशि सिंह नाम की एक महिला पर भी आरोप लगे थे, जो इस समय जेल में बंद है. शशि सिंह पर पीड़िता को विधायक के घर ले जाने का आरोप है. वहीं, रेप पीड़िता के एक्सीडेंट मामले में उसके पति हरिपाल सिंह (रिटायर्ड जवान) और बेटे नवीन सिंह को नामजद किया गया है.  

वकील और ठेकेदार का भी नाम शामिल

नामजद लोगों में वकील अवेधश सिंह का नाम शामिल है. अवेधश सिंह विधायक कुलदीप सेंगर के मामले को देखते हैं. इस मामले में विधायक के करीबी विनोद मिश्रा, ठेकेदार कोमल सिंह और रिंकू सिंह के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है. इसके अलावा 15-20 लोग अन्य में शामिल है.

केंद्र से मिली मंजूरी, सीबीआई करेगी जांच

बता दें कि चौतरफा दबाव के बाद यूपी के सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने सीबीआई जांच की सिफारिश को मंजूरी दे दी थी. मंगलवार को केंद्र की ओर से भी इस मामले की जांच सीबीआई से कराने की मंजूरी दे दी. पीड़िता के परिजनों ने पूरे मामले की सीबीआई जांच की मांग की थी.

पीड़िता की चिट्ठी पर CJI ने मांगी रिपोर्ट

उन्नाव रेप कांड में चिट्ठी का खुलासा होने पर सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश सक्रिय हो गए हैं. CJI रंजन गोगोई ने सुप्रीम कोर्ट रजिस्ट्री से रिपोर्ट मांगी है. मीडिया में बलात्कार पीड़िता के घरवालों की CJI के नाम लिखी चिट्ठी पर जस्टिस गोगोई ने रिपोर्ट मांगी है.  CJI ने पूछा है कि ये चिट्ठी कब सुप्रीम कोर्ट आई, कैसे आई और इसमें क्या मांग की गई है?


►   हिंदी समाचार के लिए आप हमे फेसबुक पर भी ज्वाइन कर सकते है