तेज धूप और भीषण गर्मी झेल रहे दिल्ली-एनसीआर समेत पूरे उत्तर भारत के लोगों के लिए आगामी कुछ घंटों के दौरान मौसम कहीं राहत तो कहीं आफत बन सकता है। मौसम में संभावित बदलाव के चलते उत्तर भारत के प्रमुख राज्यों में शुमार उत्तर प्रदेश, राजस्थान और हरियाणा में धूल भरी आंधी चल सकती है। यह जानकारी भारतीय मौसम विभाग (Indian Meteorological Department) ने अपने पूर्व अनुमान में दी है। मौसम विभाग के मुताबिक, हिंद महासागर में हवा के कम दबाव और बंगाल की खाड़ी के दक्षिणी इलाके उठे तूफान की वजह से तेजी से वातावरण में बदलाव आएगा। इससे 65 किलोमीटर तक की रफ्तार से हवाएं चलेंगी। इससे न केवल आसपास के राज्यों, बल्कि उत्तर भारत भी प्रभावित होगा।

मौसम विभाग के मुताबिक, इससे पश्चिम बंगाल के अलावा, असल, सिक्किम के साथ हिमाचल से निचले इलाके हवा की रफ्तार तेज होगी। इससेक साथ पश्चिम बंगाल सहित उत्तर पूर्व के कुछ इलाकों में आंधी के साथ बारिश की आशंका है। मौसम विभाग के अनुसार, उत्तर प्रदेश और पूर्वी राजस्थान में धूल भरी आंधी चलेगी। कुछ इलाकों में गरज चमक के साथ बौछार होगी।

बता दें कि मौसम विभाग पहले ही पूर्वानुमान जता चुका था कि तेज गर्मी और धूप से परेशान दिल्ली-एनसीआर समेत पूरे उत्तर भारत में मौसम एक बार फिर करवट ले सकता है। इससे करोड़ों लोगों को राहत मिल सकती है। मौसम विभाग की मानें तो अगले कुछ घंटों के अंदर तमिलनाडु और पोंडिचेरी में में तेज बारिश हो सकती है। इसके पीछे हिंद महासागर और बंगाल की खाड़ी में हवा का दबाव कम होना है। भारतीय मौसम विभाग (Indian Meteorological Department) के वैज्ञानिकों के मुताबिक, दक्षिणी राज्यों में भी हिंद महासागर और बंगाल की खाड़ी में हवा का कम दबाव बनने के कारण बारिश और तूफान आ सकता है।

मौसम विभाग आने वाले दिनों में उत्तर भारत के मैदानी इलाकों में आंधी-तूफान और बूंदाबांदी की संभावना भी जता रहा है। इतना नहीं, बंगाल की खाड़ी और हिंद महासागर में कम दबाव का क्षेत्र बनने से जम्मू कश्मीर तक मौसम खराब होने की संभावना भी जताई गई है। 

 

वहीं, आने वाले दिनों में तापमान में इजाफा होगा और जल्द ही दिल्ली, हरियाणा, यूपी, बिहार, राजस्थान और पंजाब में लू भी चलने लगेगी। मौसम विभाग के क्षेत्रीय मौसम विज्ञान केंद्र के प्रमुख बी पी यादव के मुताबिक, मध्य प्रदेश समेत कई राज्य अभी से लू की चपेट में है। यहां पर गर्म हवाएं झुलसा देने वाली हैं।