पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने सत्तापक्ष पर तंज कसा है। ट्वीट कर कहा है कि कहां गया वैसे लोगों का चेहरा जो चमकाया करते थे। जनता ने हेकड़ी निकाल दी। आलम यह है कि अब मोदी के नाम का सहारा लेना पड़ रहा है। 

राबड़ी देवी ने प्रधानमंत्री पर आरोप लगाया कि वह बिहार आकर अपने भाषण में पद की गरिमा का ख्याल नहीं रख रहे हैं। विपक्षियों को जेल भेजने तक की धमकी दे रहे हैं। हर बिहारी उनके सहयोगियों की तरह डरपोक नहीं होता। बिहार की जनता तानाशाहों की हेकड़ी निकालना जानती है।

पीएम के मुजफ्फरपुर दौरे पर राबड़ी ने कहा कि मुजफ्फरपुर बालिका गृहकांड सबको याद होगा। इस कांड की एक बार भी पीएम ने निंदा तक नहीं की। सुप्रीमकोर्ट के आदेश के बावजूद जांच अधिकारी को रातों-रात बदल दिया गया। बिहार आकर भाषण देने वालों को इस कांड पर भी बोलना चाहिए। बात-बेबात ट्वीट करने वाले पीएम को मासूम बच्चियों के साथ हुए अपराध पर भी बोलना चाहिए। 

तेजस्वी पहले शिवानंद से मांगें जवाब : भूपेन्द्र
बिहार भाजपा प्रभारी भूपेन्द्र यादव ने नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी प्रसाद यादव पर कटाक्ष किया है। ट्वीट कर कहा है कि लालू प्रसाद के खिलाफ शिकायत करने वालों में बिहार के अन्य नेताओं के साथ एक प्रमुख नेता शिवानंद तिवारी भी थे। भूपेन्द्र यादव ने तेजस्वी से सवाल किया कि ये शिवानंद तिवारी कौन हैं। शिवानंद तिवारी अभी राजद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हैं। इसलिए तेजस्वी को चाहिए कि वे एक बार शिवानंद तिवारी से जरूर पूछें कि आखिरकार उन्होंने लालू प्रसाद के खिलाफ शिकायत क्यों दर्ज कराई थी। सत्तापक्ष पर आरोप लगाने के बजाए तेजस्वी यादव को एक बार शिवानंद तिवारी से जरूर पूछना चाहिए। वैसे भी सवाल पूछने में अभी उनको कोई परेशानी भी नहीं होगी, क्योंकि शिवानंद अभी तेजस्वी की ही पार्टी राजद में वरीय पद पर हैं।